दुनिया का सबसे पुराना धर्म (सनातन / वैदिक) का इतिहास, जो अभी भी अभ्यास में है(Logic behind History of the Oldest Religion (Sanatan/Vedic) of the World which is still in Practice)

Image source

हम किसी भी धर्म के इतिहास को दो दृस्टि से देख या समझ सकते है| एक तार्किक और दूसरा वैज्ञानिक|

तार्किक दृस्टि से समझने में आपको थोड़ा वैज्ञानिक सबूतों की सहायता चाहिए और शेष तर्क आधारित होगा जिसका कोई सबूत मौजूद नहीं है लेकिन तर्क के आधार पर उसको काफी हद तक सही माना जा सकता है|

वैज्ञानिक दृस्टि ज्यादा से ज्यादा प्रमाण पर आधारित होती है और थोड़ा बहुत तर्क पर लेकिन किसी तर्क को तब तक सही नहीं माना जाता जब तक वह सिद्ध ना हो जाए|

अब बात करते है सनातन धर्म या वैदिक धर्म के इतिहास के बारे में|

सनातन धर्म में “सनातन” का मतलब है जिसका कोई अंत नहीं है| ये नाम इस लिए पड़ा कि किसी को इसके शुरुआत के बारे में कोई जानकारी नहीं है| वैसे सनातनी ये मानते है कि जबसे सृस्टि कि रचना हुई है तब से ये धर्म मौजूद है| लेकिन इस पर बहस जरूर कि जा सकती है| लेकिन इसमें कोई शक नहीं कि ये धर्म दुनिया कि सबसे पुराना धर्म है|

वैज्ञानिक दृस्टि से,

वैज्ञानिक दृस्टि से सनातन धर्म का इतिहास हरप्पा और मोहनजोदड़ो के इतिहास तक सिमित है जिसका वैज्ञानिक अस्तित्व 3500 ई.पू. से 1500 ई.पू. तक माना जाता है क्यों कि हरप्पा और मोहनजोदड़ो का कार्बन उत्सर्जन का समय इसी अवधी कि बिच पाया गया है| किसी भी वस्तु का इतिहास उसके कार्बन उत्सर्जन से ही पता चलता है| वैसे कुछ फ्रेंच वैज्ञानिको ने एक नए कसबे का खोज किया जिसका नाम मेहरगढ़(अभी पाकिस्तान में है) है| उसकी अवधी उन्होंने ने 7000 ई.पू. तक पाया और उन्होंने ने ये भी पाया कि उस वक़त वहा खेती होती थी गेंहू, बाजरा बोये जाते थे और बकरी, भेड़, गाये और मवेशी पाले जाते थे| ऐसा और इतना पुराना कसबा विश्व के किसी और जगह अभी तक नहीं पाया गया है| ये अपने आप में सनातन धर्म के इतिहास का एक छोटा सा सबूत है|

तार्किक दृस्टि से,

अगर हम तार्किक दृस्टि से देखे तो हमारी सबसे पुरानी मौजूद साहित्य ऋग्वेद है जिसकी अवधी 1700 ई.पू. प्रमाणित किया गया है| इससे एक बात तो सिद्ध होती है कि ऋग्वेद से काफी पहले से ये ज्ञान समाज में मौजूद लेकिन लिखित नहीं था| वैसे एक और आधार है जिसके तहत हम कह सकते है कि सनातन आज के समय में मौजूद धर्मो में सबसे पुराना है या विश्व का सबसे पुराना धर्म है| दक्षिण भारत में एक संगम पर्व मनाया जाता था जिसकी सबसे पुराना अस्तित्व 9000 ई.पू. पाया गया है और ये पर्व भगवान शिव के लिए मनाया जाता था| इससे हम यह तर्क जरूर लगा सकते है कि जब 9000 ई.पू. भारत में कोई सामूहिक पर्व मनाया जाता था तो हमारे यहाँ कि संस्कृति कितनी हज़ार साल पुरानी होगी|

4 Replies to “दुनिया का सबसे पुराना धर्म (सनातन / वैदिक) का इतिहास, जो अभी भी अभ्यास में है(Logic behind History of the Oldest Religion (Sanatan/Vedic) of the World which is still in Practice)”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *